Recent News
शिवपुरी के युवक ने ऑस्ट्रेलिया जाकर 22 देशों में की 100 करोड़ से ज्यादा की ठगी

मध्य प्रदेश पुलिस के एसटीएफ ने दिल्ली के एक होटल से राज्य के शिवपुरी निवासी एक ऐसे युवक को गिरफ्तार किया है जिसने ऑस्ट्रेलिया जाकर तकरीबन 22 देशों के सौ से ज्यादा लोगों क्रिप्टो करंसी के जाल में उलझाकर 100 करोड़ से भी ज्यादा की ठगी की है।  वह ऑस्ट्रेलिया की एक क्रिप्टो करंसी कम्पनी काभारत के लिए नेशनल हेड बताया गया है।

आरोपी लोगों को प्लस गोल्ड यूनियन कॉइन (पीजीयूसी) नामक क्रिप्टो करंसी के जरिए ज्यादा रकम कमाने का लालच देकर अपने जाल में फंसाने में माहिर बताया जाता है। उसे दिल्ली एसटीएफ की मदद से एक होटल से गिरफ्तार किया गया है।

एमपी एसटीएफ के स्पेशल डीजी पुरुषोत्तम शर्मा ने बताया कि गिरफ्तार किया गया आरोपी हरप्रीत सिंह साहनी मूलत: शिवपुरी का रहने वाला है। यहां व्यापार में घाटा होने पर वह ऑस्ट्रेलिया जाकर बस गया।

ऑस्ट्रेलिया में उसने सिक्यूरिटी एजेंसी का काम करते हुए अप्रवासी भारतीयों में अच्छा दखल बनाया। इसी बीच उसकी पहचान भारत में पीजीयूसी का गोरखधंधा करने वालों से हो गई। तो वह ऑस्ट्रेलिया में ही पीजीयूसी का काम देखने लगा। वहां मंदिरों, संस्थाओं और घर-घर जाकर हरप्रीत ने पीजीयूसी से 100 लोगों को जोड़कर सौ करोड़ से ज्यादा की ठगी की।

एडीजी अशोक अवस्थी ने बताया कि हरप्रीत का नाम सिडनी (ऑस्ट्रेलिया) निवासी एनआरआई राजीव शर्मा की शिकायत के बाद सामने आया। शिकायत पर टीम ने जब पीजीयूसी के सर्वर का विश्लेषण शुरू किया तो हरप्रीत द्वारा की गई गड़बड़ी के सबूत मिले। टीम ने तकनीकी पहलुओं के आधार पर उस पर नजर रखी। इसकी भनक हरप्रीत को लगी तो गिरफ्त से बचने के लिए वह मेलबर्न पहुंच गया।
साथ ही वह अमरावती और राजस्थान के व्यापारियों के जरिए बड़ी डील करने वाला था। इस बड़ी ठगी के बाद उसका मकसद अबुधाबी में बसने का था। लेकिन इसी बीच वह दिल्ली पहुंचा और एसटीएफ ने धर दबोचा।
दुनिया के 79 शहरों में गड़बड़ी
एसपी एसटीएफ विनय पॉल के मुताबिक इस गड़बड़ी का नेटवर्क 22 देशों के 79 शहरों में फैला है। इनमें भारत, पाकिस्तान, ऑस्ट्रेलिया, बांग्लादेश, कोलंबिया, फ्रांस, जर्मनी, हांगकांग, इंडोनेशिया, इटली, मलेशिया, जापान, नाइजीरिया, फिलीस्तीन, रूस, सिंगापुर, स्विटजरलैंड, इंग्लैंड शामिल हैं।
क्या है क्रिप्टो करंसी;
सरल भाषा में इसे एक खास तरह की इलैक्ट्रॉनिक मुद्रा कहा जा सकता है, जिसके द्वारा सरकार को बिना बताऐ इंटरनेट के माध्यम से कितनी भी बडी रकम का लेन देन तत्काल हो सकता है, इससे किसी भी वस्तु की खरीद बिक्री भी संभव है।
समझा जा सकता है कि, इसका इस्तेमाल ठगी, कालाबाजारी, आतंकी गतिविधियों में होने की आशंका से इंकार नहीं किया जा सकता। यह कई नामों से प्रचलित है जिनमें बिटकॉइन, पीजीयूसी आदि शामिल हैं।
देश दुनियां की खबरों से हमेशा अपडेट रहने के लिए फ्री सेवा का उपयोग करें. कृपया यहां दिख रहा Allow या Follow का बटन दवाऐं अथवा लाल घंटी बजाऐं. क्योंकि, वाट्सएप से सभी नम्बरों पर सूचना नहीं पहुंच रही. धन्यवाद
loading...
News Reporter
इस वेबसाइट के लगभग सभी आलेख व खबरें Dailyhunt, Google News, NewsDog, NewsPoint एवं UC News पर भी उपलब्ध हैं. ज्यादातर चित्र सांकेतिक रहते हैं तथा इंटरनेट के उपयोग किए जाते हैं, इसलिए किसी कॉपीराइट का दावा नहीं है. सम्पर्क: Mob : 91-9993069079 WhatsApp : 91-7974827087 E-Mail : rapaznewsco@gmail.com

1 thought on “शिवपुरी के युवक ने ऑस्ट्रेलिया जाकर 22 देशों में की 100 करोड़ से ज्यादा की ठगी

Comments are closed.

loading...
loading...
Join Group