महिला IAS ने किया ऐसा ट्वीट, पूरे देश में मचा वबाल

महाराष्ट्र के मुम्बई में पदस्थ महिला आईएएस अधिकारी द्वारा किए गए गांधी-विरोधी ट्वीट को लेकर विवाद पैदा हो गया है। इस महिला अफसर का ट्वीट गांधी विरोधी ही नहीं बल्कि, उनकी हत्या के आरोपी नाथूराम गोड़से के पक्ष में भी माना जा रहा है।

मालूम हो कि बीते लोकसभा चुनाव के दौरान भोपाल से भाजपा प्रत्याशी रहीं प्रज्ञा ठाकुर भारती द्वारा भी ऐसा ही मिलता – जुलता बयान देने पर काफी हो हल्ला मचा था।

अब महिला आईएएस निधि चौधरी ने पूरी दुनिया से महात्मा गांधी का नामोनिशान मिटाने की अपील कर एक बार फिर देश में गंभीर बबाल के हालात पैदा कर दिए हैं।

भाषा की खबरों में बताया गया है कि, निधि चौधरी ने पूरी दुनियां से महात्मा गांधी की प्रतिमाएं हटाने और भारतीय मुद्रा से उनकी तस्वीर हटाने की बात कही थी। उन्होंने राष्ट्रपिता के नाम वाली सड़कों और संस्थाओं का नाम बदलने की भी मांग की। हद तो यह कि, उन्होंने गांधी की हत्या करने वाले नाथूराम गोडसे के प्रति ‘धन्यवाद’ कहकर कृतज्ञता भी प्रकट की।

हालांकि, अपने ट्वीट से उपजे विवाद के बाद बृहन्मुंबई महानगरपालिका की उप निगमायुक्त निधि चौधरी ने नेताओं की तरह मुकरते हुए पिछले शनिवार को अपना ट्वीट व्यंग्यात्मक साबित करने की कोशिश की और कहा कि, उनके ट्वीट की गलत व्याख्या की गई है।

उन्होंने ट्वीट को डिलीट भी कर दिया है। हालांकि, तब तक उनका बवाल पैदा करने और सुर्खियां बनने का कथित उद्देश्य तो पूरा हो ही चुका था।

उधर कांग्रेस के संचार विभाग के प्रमुख रणदीप सिंह सुरजेवाला ने रविवार को ट्वीट कर कहा कि पहले भाजपा सांसद प्रज्ञा ठाकुर, फिर पार्टी विधायक ऊषा ठाकुर और अब महाराष्ट्र से आईएएस अधिकारी निधि चौधरी ने गांधीजी के हत्यारे नाथूराम गोडसे की प्रशंसा की है।

मुख्यमंत्री फडणवीस को तत्काल, आईएएस अधिकारी पर कार्रवाई करनी चाहिए। बापू की 150वीं जयंती पर भाजपा गोडसे का महिमामंडन क्यों कर रही है? राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी (राकांपा) ने महात्मा गांधी के लिए ‘अपमानजनक’ ट्वीट और गोडसे का ‘‘महिमामंडन’’ करने को लेकर अधिकारी को निलंबित करने की मांग की।

चौधरी ने 17 मई अपने ट्वीट में कहा था- ‘इस साल 150वीं जयंती का कितना सुन्दर समारोह चल रहा है। अब वक्त आ गया है कि हम अपने नोटों से उनका चेहरा हटाएं, दुनिया से उनकी प्रतिमाएं हटाएं, उनके नाम वाली संस्थाओं @सड़कों का फिर से नामकरण करें। हमारी ओर से यही सच्ची श्रद्धांजलि होगी। 30-01-1948 के लिए धन्यवाद गोडसे।’

राकांपा नेता जितेन्द्र अवहद ने चौधरी को निलंबित कर उनके खिलाफ कड़ी कार्रवाई करने की मांग की। आलोचनाओं के बाद चौधरी ने दावा किया कि महात्मा गांधी की आत्मकथा उनकी सबसे पसंदीदा पुस्तक है और उनके ट्वीट को ‘गलत समझा’ गया है।

उन्होंने ट्वीट किया, ‘जिन्होंने मेरे 17-05-2019 के ट्वीट को गलत समझा है, उन्हें मेरी टाइम लाइन देखनी चाहिए। पिछले कुछ महीने के ट्वीट भी अपने आप में पर्याप्त हैं। मैं व्यंग्य के साथ लिखे इस ट्वीट को गलत तरीके से समझे जाने से बहुत दुखी हूं।’

निधि चौधरी ने लिखा है- ‘मैं कभी गांधी जी का अपमान नहीं करूंगी। गांधी जी हमारे राष्ट्रपिता हैं और 2019 में हम सभी को देश को बेहतर बनाने के लिए कुछ करना चाहिए। आशा करती हूं कि मेरे ट्वीट को गलत समझने वाले लोग उसमें निहित व्यंग्य को समझेंगे।’  रापाज न्यूज : सम्वाददाता / ब्यूरो चीफ


[] आपको यह खबर कैसी लगी, कृपया नीचे कमेंट बॉक्स में अपनी राय बताऐं. []  देश दुनियां की ऐसी ही खबरों से हमेशा अपडेट रहने के लिए कृपया यहां दिख रहा Allow या Follow का बटन दवाऐं अथवा लाल घंटी बजाऐं. धन्यवाद

loading...
News Reporter
इस वेबसाइट के लगभग सभी आलेख व खबरें Dailyhunt, Google News, NewsDog, NewsPoint एवं UC News पर भी उपलब्ध हैं. ज्यादातर चित्र सांकेतिक रहते हैं तथा इंटरनेट के उपयोग किए जाते हैं, इसलिए किसी कॉपीराइट का दावा नहीं है. सम्पर्क: Mob : 91-9993069079 WhatsApp : 91-7974827087 E-Mail : rapaznewsco@gmail.com

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

loading...
loading...
Join Group