पाकिस्तान में सिख पुजारी की बेटी का बंदूक की नोंक पर धर्म बदल कराया निकाह

पाकिस्तान में एक सिख ग्रन्थी (पुजारी) की बेटी का कथित रूप से अपहरण कर बंदूक की नोंक पर धर्म बदलवाकर उसकी जबरन निकाह कराए जाने के मामले ने दोनों देशों के सिख समुदाय व संगठनों में रोष भर दिया है। इस मामले पर सिख राजनीति गरमा गई है।

इस मामले पर दिल्ली सिख गुरुद्वारा प्रबंधक कमेटी के पूर्व अध्यक्ष मनजीत सिंह जीके ने सोशल मीडिया पर एक वीडियो पोस्ट करते हुए  पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान को दो दिनों के भीतर लड़की को सुरक्षित परिजनों तक पहुंचाने का अल्टीमेटम दिया।

जीके ने मांग पूरी नहीं हुई सोमवार को दिल्ली स्थित पाकिस्तानी दूतावास के बाहर जोरदार प्रदर्शन करने को भी कहा था।  दिल्ली की सभी धार्मिक व सामाजिक संगठनों के प्रतिनिधियों को इस प्रदर्शन में शामिल होने का न्योता भी दिया गया था।

उन्होंने कहा कि सिखों ने हमेशा महिलाओं की रक्षा को अपना फर्ज समझा है। जीके ने भारतीय प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, विदेश मंत्री एस जयशंकर से इस मामले में तुरंत हस्तक्षेप करने की मांग भी की थी।

इसके बाद पाकिस्तान पुलिस ने दावा किया था कि उसने पीड़िता को परिवार के पास वापस लौटा दिया है। साथ ही इस मामले आठ आरोपियों को गिरफ्तार भी किया गया है।

लेकिन लड़की के भाई ने कहा कि उसकी बहिन अब तक उनके पास वापस नहीं आई है। साथ ही उसने यह कहा कि इस मामले को लेकर अभी तक किसी की भी गिरफ्तारी नहीं हुई है।

पीड़िता के भाई ने पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान, सेना प्रमुख बाजवा और पंजाब के गवर्नर से न्याय की गुहार भी लगाई।

 

मालूम हो कि, गुरुवार 29 अगस्त को पाकिस्तान के लाहौर के ननकाना साहिब क्षेत्र में एक सिख लड़की का बंदूक की नोंक पर जबरन धर्म परिवर्तन कराने का मामला सामने आया था। लड़की कई दिनों से लापता थी।

लड़की को जबरन इस्लाम कबूल कराने के बाद एक मुस्लिम शख्स से उसका निकाह भी कराया गया। 19 साल की पीड़िता गुरुद्वारा तंबू साहिब के ग्रंथी (पुजारी) भगवान सिंह की बेटी है।

घटना के बाद पाकिस्तान में कार्यरत अलग-अलग सिख संगठनों ने भी एक 30 सदस्य कमेटी का गठन किया है। यह कमेटी पाकिस्तान सरकार द्वारा मंत्री राजा बशारत की अध्यक्षता में गठित कमेटी के समक्ष इस मामले में अपना पक्ष रखेगी। मामले को लेकर पाकिस्तान और भारत में कई संगठन और लोगों ने विरोध दर्ज कराया है।

पीड़िता के वकील ने बदला मामला:  दूसरी तरफ इस मामले में यह भी खबर है कि,  सिख युवती के वकील शेख सुल्तान ने पुलिस को बताया कि युवती ने अपनी मर्जी से इस्लाम धर्म अपनाया है। उसे आयशा नाम दिया गया है। फिर उसने मोहम्मद हसन के साथ मर्जी से निकाह भी किया।

वकील सुल्तान के अनुसार युवती ने अपने परिवार और स्थानीय पुलिस के खिलाफ लाहौर उच्च न्यायालय में एक याचिका दायर कर परिवार द्वारा उत्पीड़न करने का आरोप लगाया था। साथ ही अदालत में दिए एक लिखित बयान उसने कहा था कि- उसने इस्लाम धर्म अपना लिया है और अपनी मर्जी से शादी की है। उसने अपने परिवार पर उसे जान से मारने की कोशिश का भी आरोप लगाया था।
अतिरिक्त सत्र न्यायाधीश के आदेश के अनुसार युवती को लाहौर के दारुल अमन में रखा गया है। वहीं श्री ननकाना साहिब की पुलिस ने भी युवती के शादी का वीडियो और निकाहनामा अदालत में पेश करने की तैयारी शुरु कर दी थी।

 

[ संवाददाता, कैमरामेन, ब्यूरो चीफ एवं कंटेंट रायटर बनने हेतु यहां क्लिक करें, समुचित पारिश्रमिक देय.]

[] आपको यह खबर कैसी लगी, कृपया नीचे कमेंट बॉक्स में अपनी राय बताऐं.

[]  देश दुनियां की ऐसी ही खबरों से हमेशा अपडेट रहने के लिए कृपया यहां दिख रहा Allow या Follow का बटन दवाऐं अथवा लाल घंटी बजाऐं. धन्यवाद

loading...
News Reporter
इस वेबसाइट के लगभग सभी आलेख व खबरें Dailyhunt, Google News, NewsDog, NewsPoint एवं UC News पर भी उपलब्ध हैं. ज्यादातर चित्र सांकेतिक रहते हैं तथा इंटरनेट के उपयोग किए जाते हैं, इसलिए किसी कॉपीराइट का दावा नहीं है. सम्पर्क: Mob : 91-9993069079 WhatsApp : 91-7974827087 E-Mail : rapaznewsco@gmail.com
loading...
loading...
Join Group