गिड़गिड़ाते हुए माफी मांग रहा देशद्रोही भगोड़ा जाकिर नाईक

भारत के भगोड़े साम्प्रदायिक धर्म उपदेशक जाकिर नाईक पर मलेशिया सरकार ने बड़ी कार्रवाई की है. इसके तहत जाकिर पर पूरे मलेशिया में भाषण देने पर रोक लगा दी गई है. अब वह मलेशिया में कहीं पर भी भाषण देकर साम्प्रदायिक माहौल नहीं बिगाड़ पाएगा.

मालूम हो कि, जाकिर पर हिंदुओं और चीन के लोगों की भावनाएं आहत करने का आरोप है. मलेशिया पुलिस ने कहा कि राष्ट्रीय सद्भाव और लोगों के हितों के लिए जाकिर पर कार्रवाई की गई है. इससे पहले, सोमवार को उससे 10 घंटे तक पूछताछ भी हुई.

इसी बीच यह भी खबर है कि, अब इस मसले पर जाकिर नाइक ने वहां गिड़गिड़ाते हुए माफी मांगी है. अपनी करनी के उलट एक बयान में जाकिर ने कहा-  ‘मैं हमेशा से शांति का समर्थक रहा हूं, यही कुरान का मतलब है. पूरी दुनिया में शांति फैलाना मेरा मिशन रहा है. दुर्भाग्य से मेरे आलोचक, मेरे इस मिशन को रोकने का प्रयास कर रहे हैं.

उसने कहा कि, आपने पिछले कुछ दिनों में देखा होगा कि मुझ पर देश में धार्मिक नस्लीय जहर फैलाने के आरोप लगाए जा रहे हैं और मेरे आलोचक कुछ सिलेक्टिव बातों को उठा रहे हैं. आज मैंने पुलिस के सामने अपना पक्ष रखा है.”

जाकिर ने यह भी कहा कि, “मैं इस बात से भी दुखी हूं कि इस पूरे प्रकरण से गैर-मुस्लिम लोग मुझे रेसिस्ट समझ रहे हैं. मुझे भी इस बात की चिंता है क्योंकि बिना संदर्भ की बातों से मेरे धार्मिक उपदेश न सुनने वाला भी दुखी है. नस्लीयता एक बुराई है, मैं इसके खिलाफ हूं. कुरान में भी यही कहा गया है.”

उसने पैगम्बर का हवाला देते हुए कहा कि,  मोहम्मद साहब ने अपनी अंतिम धार्मिक यात्रा के दौरान कहा था- “कोई भी अरबवासी, गैर-अरब लोगों से श्रेष्ठ नहीं है, न ही गैर-अरब के लोग, अरब के लोगों से श्रेष्ठ हैं. श्वेत, अश्वेत से श्रेष्ठ नहीं है, ठीक इसी तरह अश्वेत, श्वेत से श्रेष्ठ नहीं है.”

जाकिर ने अपने बयान में आगे कहा कि, “हालांकि मैंने अपना रुख स्पष्ट कर दिया है फिर भी मैं इस गफलत के लिए लोगों से माफी मांगता हूं. मैं नहीं चाहता कि कोई भी मेरे खिलाफ गलत भावनाएं रखे. किसी व्यक्ति या समुदाय को नाराज करना मेरा कभी भी उद्देश्य नहीं रहा.”

हिंदुओं के खिलाफ की थी नस्लीय टिप्पणी: भारत से भागकर मलेशिया में रह रहे विवादित इस्‍लामी उपदेशक जाकिर नाइक से नस्‍लीय टिप्‍पणी के आरोप में मलेशियाई सरकार की एजेंसी पूछताछ करेगी. इस सिलसिले में उसको समन भेजा जाएगा. जाकिर ने हाल में मलेशिया के मुस्लिम बहुल होने के बावजूद हिंदुओं के पास ढेर सारे अधिकार होने की बात कही थी. दरअसल, जाकिर ने कहा कि मलेशिया में हिंदुओं को भारत में अल्‍पसंख्‍यक मुस्लिमों की तुलना में 100 गुना अधिक अधिकार मिले हैं. इस नस्‍लीय टिप्‍पणी का भारतीय समुदाय ने सख्‍त विरोध किया था. इसे आपसी भाई-चारे, सौहार्द और समानता के अधिकार के खिलाफ टिप्‍पणी के रूप में देखा गया

 

देश दुनियां की ऐसी ही खबरों से हमेशा अपडेट रहने के लिए कृपया यहां दिख रहा Allow या Follow का बटन दवाऐं अथवा लाल घंटी बजाऐं. धन्यवाद

loading...
News Reporter
इस वेबसाइट के लगभग सभी आलेख व खबरें Dailyhunt, Google News, NewsDog, NewsPoint एवं UC News पर भी उपलब्ध हैं. ज्यादातर चित्र सांकेतिक रहते हैं तथा इंटरनेट के उपयोग किए जाते हैं, इसलिए किसी कॉपीराइट का दावा नहीं है. सम्पर्क: Mob : 91-9993069079 WhatsApp : 91-7974827087 E-Mail : rapaznewsco@gmail.com

1 thought on “गिड़गिड़ाते हुए माफी मांग रहा देशद्रोही भगोड़ा जाकिर नाईक

  1. देशद्रेाही के साथ और भी बुरा होना मांगता

Comments are closed.

loading...
loading...
Join Group