निगम अफसरों की मारपीट पर भाजपा नेता का विधायक पुत्र गिरफ्तार, कोर्ट ने जेल भेजा

मध्यप्रदेश के शांतिप्रिय समझे जाने वाले महानगर इंदौर में बुधवार को उस समय माहौल खराब हो गया जब वहां की विधानसभा सीट इंदौर- 3 के युवा विधायक आकाश विजयवर्गीय ने निगम अधिकारियों पर क्रिकेट बैट से हमला कर दिया। हालांकि इससे पहले विधायक ने निगम अमले को वापस जाने की चेतावनी दी थी। उनकी बात न मानने पर पहले अभद्रता की और फिर हमला कर दिया।

जानकारी के अनुसार कोर्ट के आदेश पर निगम मुख्यालय के समीप गंजी कंपाउंड स्थित जर्जर मकान तोड़ने निगम की टीम पहुंची तो भाजपा के वरिष्ठ नेता कैलाश विजयवर्गीय के विधायक पुत्र आकाश ने निगम अधिकारियों को चेताया- आप 5 मिनट में यहां से नहीं गए तो इसकी जिम्मेदारी आपकी होगी।

इस दौरान जेसीबी पोकलेन की चाबी भी निकाली गई। खबर है कि, इसके वाबजूद निगम अमला मौके पर डटा रहा तो विधायक आपा खो बैठे और क्रिकेट बैट से मारपीट शुरू कर दी। बता दें कि, इंदौर नगर निगम में भाजपा की ही सरकार है, मालिनी गौर वहां की महापौर हैं। जानकारी के अनुसार श्रीमती गौर व विजयवर्गीय के बीच राजनीतिक रसूख की लड़ाई लम्बे समय से चली आ रही है।

इस घटना पर भोपाल में कांग्रेस के मीडिया प्रभाग की अध्यक्ष शोभा ओझा ने इसे भाजपा का गिरोह युद करार देते हुए कहा कि, आकाश विजयवर्गीय द्वारा निगमकर्मियों की पिटाई करना बेहद निंदनीय है । भाजपा महापौर मालिनी गौर और भाजपा के राष्ट्रीय महासचिव कैलाश विजयवर्गीय की लंबे समय से चली आ रही राजनैतिक मतभिन्नता अब चरम पर है और हिंसक हो चली है।

आकाश – कैलाश विजयवर्गीय

कैलाश विजयवर्गीय के बेटे और विधायक आकाश विजयवर्गीय ने बीजेपी महापौर मालिनी गौर जी को सीधी चुनौती देते हुए आज सरे राह निगमकर्मियों की पिटाई की। बीते दिनों भी एक पुल के लोकार्पण समारोह में खुले आम बीजेपी विधायक और बीजेपी महापौर की लड़ाई सामने आई थी। बुनियादी रूप से यह जन हित की नहीं, राजनैतिक वर्चस्व की लड़ाई है।

अराजकता का यह तांडव नया नहीं है।प्रह्लाद पटेल के बेटे हों, कमल पटेल के या कैलाश विजयवर्गीय के, विरासत में मिली आपराधिक एवं अराजक मनोवृत्ति ही भाजपा नेता पुत्रों में हस्तांतरित हो रही है।

गृह मंत्री बाला बच्चन ने इस मामले में बयान देते हुए कहा है कि, आकाश विजयवर्गीय के खिलाफ सख्त कार्रवाई की जावेगी। घटना से बीजेपी का चाल, चरित्र व चेहरा एक बार फिर उजागर हुआ है।

इस बीच आरोपी विधायक को गिरफ्तार किया जा चुका है, खबर मिली है कि, आरोपी को कोर्ट में पेश किया गया, जहां जमानत निरस्त किए जाने पर जेल भेज दिया गया।

इस घटना के चलते इंदौर में माहौल गर्म है तो पूरे देश की राजनीति में भी सरगर्मी है। इस बीच इंदौर निगम आयुक्त आशीष सिंह का एक वीडियो बयान भी वायरल हुआ है जिससे साफ होता है कि आरोपी विधायक ने जानबूझकर कानून हाथ में लिया है।

एक और वीडियो वायरल हो रहा है, एक चैनल न्यूज 24 के सम्वाददाता ने जब फोन पर भाजपा महासचिव कैलाश विजयवर्गीय से इस घटना के संदर्भ में सवाल किया तो वह भड़क गए।

दोस्तों, यह आर्टीकल आपको कैसा लगा, कृपया यहां कमेंट करके जरूर बताऐं ताकि, हम आपके अनुरूप सुधार कर सकें. [] ताजा खबरों से अपडेट रहने के लिए कृपया Allow या Follow का बटन जरूर दवाऐं अथवा लाल घंटी बजाऐं. [] सोशल मीडिया पर अपने दोस्तों को शेयर भी करें.

News Reporter

1 thought on “निगम अफसरों की मारपीट पर भाजपा नेता का विधायक पुत्र गिरफ्तार, कोर्ट ने जेल भेजा

  1. loading...

Comments are closed.

loading...
loading...
Join Group