शराब और हवस के नशे ने किया रिश्ता कलंकित, बेटी अस्पताल में और पिता पहुंचा हवालात में

शराब और हवस के नशे ने बाप बेटी के पवित्र रिश्ते को कलंकित कर दिया जिसके चलते बेटी अस्पताल में मौत से जूझ रही है और बाप हवालात जा पहुंचा। गनीमत रही कि कामांध बाप मनमर्जी न कर सका।

खबर के मुताबिक ग्वालियर के महाराजपुरा थानांन्तर्गत डीडी नगर में रहने वाले सेना के एक रिटायर्ड नायब सूबेदार ने अपनी ही बेटी से दुष्कर्म की कोशिश की। बेटी के विरोध करने पर पिता ने अपनी लाइसेंसी राइफल से उसके सिर में गोली मार दी। बेटी की हालत नाजुक है। जिसका जेएएच अस्पताल में इलाज चल रहा है।

जानकारी के मुताबिक रात डीडी नगर के जीएल सेक्टर की है। देर रात अचानक पिता राजेश राजावत बेटी के कमरे में पहुंचा और उसके साथ गलत इरादे से छेड़छाड़ करने लगा। पिता की हरकत से बेटी घबरा गई, भागकर वह मां के पास पहुंची और पूरी बात बताई।

पीछा करता नशे में धुत पिता अपना आपा खो बैठा और बेटी पर ही गोली चला दी जो उसके सिर में लगी। मां बचाने आई तो दूसरी उस पर भी गोली चला दी, जो उसके करीब से गुजर गई।

तब आनन-फानन में मां ने पड़ोसियों को जगाया। जिसके बाद आरोपी पिता को पकड़ा गया। जानकारी मिलने पर महाराजपुरा थाना पुलिस ने मौके पर पहुंच कर आरोपी को गिरफ्तार कर लिया। घटना में उपयोग की गई बंदूक भी जब्त कर ली।

पता चला है कि, अब पुलिस यह भी जांच करेगी कि, घटना जैसी बताई गई है वैसी ही है या असलियत कुछ और है। दरअसल, घटना विवरण से कुछ सवाल पैदा हो रहे हैं जैसे कि, अगर आरोपी गलत इरादे से ही बेटी के कमरे में घुसा था तो बंदूक क्यों लिए था, मॉ ने जब पड़ोसियों को बुलाया उस बीच आरोपी भागा क्यों नहीं?

दोस्तों, यह आर्टीकल आपको कैसा लगा, कृपया यहां कमेंट करके जरूर बताऐं ताकि, हम आपके अनुरूप सुधार कर सकें. [] ताजा खबरों से अपडेट रहने के लिए कृपया Allow या Follow का बटन जरूर दवाऐं अथवा लाल घंटी बजाऐं.

loading...
News Reporter
इस वेबसाइट के लगभग सभी आलेख व खबरें Dailyhunt, Google News, NewsDog, NewsPoint एवं UC News पर भी उपलब्ध हैं. ज्यादातर चित्र सांकेतिक रहते हैं तथा इंटरनेट के उपयोग किए जाते हैं, इसलिए किसी कॉपीराइट का दावा नहीं है. सम्पर्क: Mob : 91-9993069079 WhatsApp : 91-7974827087 E-Mail : rapaznewsco@gmail.com

1 thought on “शराब और हवस के नशे ने किया रिश्ता कलंकित, बेटी अस्पताल में और पिता पहुंचा हवालात में

Comments are closed.

loading...
loading...
Join Group