एक महिला ने लगाया SI पर संगीन आरोप, पहले महिला SI ने की थी धुनाई

इंदौर। डीआरपी लाइन में पदस्थ विवादित एसआई देर रात एक महिला के घर में घुस गया। पहले शराब तस्करी का आरोप लगाया फिर बात करने का दबाव बनाने लगा। महिला ने उसे कोर्ट में पहचान लिया और थाने में शिकायत कर दी। बताया गया है कि, आरोपी एसआई पर इसके पूर्व एक महिला एसआई भी अश्लीलता का आरोप लगा चुकी है।

मामला इंदौर थाना क्षेत्र स्थित जबरन कॉलोनी का है। जहाँ एक 34 वर्षीय महिला ने गुरुवार शाम पति के साथ थाने पहुंचकर थाना परिसर में रहने वाले एसआई यदूनाथसिंह तोमर के खिलाफ शिकायत की। महिला का पति गिट्टी-रेती का व्यापार करता है। उसने पुलिस को बताया कि घटना करीब एक महीने पुरानी है। लेकिन तब शिकायत इसलीए नहीं की थी कि, वह एसआई को पहचानती न थी।

एस आई तोमर रात करीब 11.30 बजे भोला नामक युवक के साथ उसके घर आया और सोफे पर बैठ गया। आने का कारण पूछा तो कहा मुझे शराब तस्करी की खबर मिली थी, तुम शराब की तस्करी करती हो। महिला ने शराब बेचने से इनकार कर दिया, तब वे दोनों चले गए। लेकिन इसके कुछ दिन बाद वह फिर आ धमका और कहने लगा कि, मुझे तुमसे बात करना है।

महिला का आरोप है वह गलत नजर से देख रहा था। मैंने उससे सबके सामने बात करने का बोला तो चला गया। कुछ दिन पूर्व महिला काम से कोर्ट गई थी। यदूनाथ की वहां ड्यूटी लगी थी। वर्दी पर नेम प्लेट पढ़कर महिला ने उसका नाम नोट कर लिया और बुधवार को शिकायत कर दी। प्रभारी टीआई एसआई अनिल गौतम के मुताबिक, महिला का आवेदन लेकर बयान लिए हैं। जिस एसआई पर आरोप लगाया है वह थाने में पदस्थ ही नहीं है। वह शराब की जांच करने कैसे जा सकता है।

महिला एसआई ने कर दी थी टीआई के सामने पिटाई

यदूनाथ तोमर के विरुद्ध कई जांच चल रही हैं। इसके पूर्व जूनी इंदौर थाने में पदस्थ एक महिला एसआई ने भी अश्लील मैसेज करने का आरोप लगाकर टीआई देवेंद्र कुमार के कैबिन के बाहर उसकी पिटाई कर दी थी। एसपी ने केस दर्ज करने के आदेश के साथ विभागीय जांच बैठा दी थी। एसआई एक बार एरोड्रम क्षेत्र में भी सार्वजनिक रूप से पिट चुका है। एसआई तोमर के मुताबिक उसे शिकायत की जानकारी नहीं है। वह महिला के घर गया ही नहीं था।

सीएसपी की रिपोर्ट पर एसआई लाइन अटैच

उधर अपने अफसरों को जानकारी न देने के कारण सराफा थाने में पदस्थ एसआई नरेंद्र जैसवार को एसएसपी रुचि वर्धन मिश्र ने लाइन अटैच कर दिया है। टीआई दिनेश भंवर के मुताबिक, जैसवार धोखाधड़ी के केस की जांच कर रहे थे। उन्होंने सीएसपी को बताए बगैर मुलजिम को पकड़कर जेल भेज दिया था। सीएसपी ने एसएसपी को रिपोर्ट सौंपी और थाने से हटा दिया।

दोस्तों, यह आर्टीकल आपको कैसा लगा, कृपया यहां कमेंट करके जरूर बताऐं ताकि, हम आपके अनुरूप सुधार कर सकें. 
अगर आप ताजा खबरें पढ़ना चाहें तो Allow या Follow का बटन जरूर दवाऐं अथवा लाल घंटी बजाऐं. 
सोशल मीडिया पर अपने दोस्तों को शेयर भी करें. 
अपने वाट्सएप पर खबरें पढ़ने के लिए हमारे नम्बर 9993069079 पर Hi / Hello या Miscall करें. यह नम्बर आप अपने वाट्सएप ग्रुप में भी जोड़ सकते हैं.

1 Comment

  1. loading...

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*


loading...