बढ़ने लगा घड़ियालों का कुनबा, अंडों से निकले 8 बच्चे

मुरैना . चंबल नदी में घड़ियालों का परिवार धीरे-धीरे बढ़ता जा रहा है। मंगलवार को देवरी स्थित घड़ियाल इको सेंटर पर अंडों से 8 बच्चों निकले। इसी के साथ अब नए शावक घड़ियालों की संख्या 233 हो गई। जबकि पूरे चंबल में 1265 से अधिक घड़ियाल विचरण कर रहे हैं। अभी 25 अंडों से बच्चे निकलना शेष हैं। घड़ियाल शावकों का संरक्षण तीन वर्ष तक देवरी स्थित घड़ियाल इको सेंटर पर किया जाएगा।

चार दशक पूर्व विश्व में कराए भारतीय प्रजाति के घड़ियालों के सर्वे में 46 घड़ियाल चंबल में मिले थे। इसके बाद 80 के दशक में चंबल नदी के 435 किमी क्षेत्र को घड़ियाल अभयारण्य घोषित किया गया। इनके संरक्षण व संवर्धन के लिए देवरी पर घड़ियाल केंद्र बनाया गया। 

 प्रतिवर्ष घड़ियालों के 200 अंडे नदी के विभिन्न घाटों से लाकर देवरी केंद्र पर रखे जाते हैं। यहां इनकी हेचिंग होती है। इन शावक घड़ियालों का संरक्षण वयस्क होने तक किया जाता है। ग्रो एंड रिलीज कार्यक्रम के अन्तर्गत यह घड़ियाल 1.20 मीटर की लंबाई होने पर नदी में छोड़े जाते हैं।

तत्काल ताजा खबरों के लिए हमें फॉलो या Allow करें अथवा लाल घंटी बजाकर Subscribe करें. / यह न्यूज कैसी लगी, नीचे कमेंट बॉक्स में अपनी राय भी दें, आपका ईमेल शो नहीं किया जावेगा.

1 Comment

  1. loading...

Comments are closed.

loading...