भाजपा सरकार में भी मंत्री रहे, कांग्रेस ने भी बनाया फिरभी अब तक किसी पार्टी में नहीं

भोपाल . विधानसभा चुनाव पूर्व तत्कालीन मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान और उनकी सरकार द्वारा नर्मदा वृक्षारोपण के नाम पर किए गए करोड़ों रुपए के कथित भ्रष्टाचार की पोल खोलने की धमकी देकर चर्चा में आऐ नामदेव दास त्यागी ऊर्फ कंप्यूटर बाबा एक बार फिर चर्चा में हैं।

मालूम हो कि, नर्मदा वृक्षारोपण में हुए कथित भ्रष्टाचार की पोल खोलने के लिए जिस दिन साधुसंतों ने बैठक की थी, खबर लगने पर उसके दूसरे ही दिन सुबह सुबह शिवराज सिंह ने स्वयं बाबाओं की तपस्थली पहुंचकर पांच बाबाओं को सरकार में राज्यमंत्री का दर्जा देकर गुस्सा शांत करने की कोशिश की थी।

इस तरह सरकार से घूस में मंत्री पद पाने वाले बाबाओं में शामिल रहे कम्प्युटर बाबा ने कुछ समय बाद ही सरकार से मंत्री के तौर पर मिली सभी सुविधाऐं व अधिकार वापस करते हुए और शिवराज सिंह को धोखेबाज बताते हुए उनका विरोोध शुरु कर दिया था।

यही नहीं कुछ समय बाद हुए विधान सभा चुनाव में उन्होंने सैकड़ों – हजारों साधु संतों के साथ बीजेपी और शिवराज के खिलाफ बिगुल भी बजाया था।

इसके बाद वह लोकसभा चुनाव के दौरान वह पूर्व मुख्यमंत्री दिग्विजय सिंह की जीत के लिए पूजा-पाठ करने को लेकर फिर चर्चाओं में रहे। अब चुनाव बाद उनको मौजूदा सरकार ने भी उपकृत कर दिया है।

मौजूदा सरकार ने कम्प्यूटर बाबा को उनकी आराध्य मानीसजानें वाली नदियों से सम्बंधित “नर्मदा, क्षिप्रा एवं मन्दाकिनी नदी न्यास” का अध्यक्ष बनाया है।

मंगलवार को बाबा ने मंत्रालय पहुंचकर अपना पदभार ग्रहण कर लिया। इस अवसर पर राज्यसभा सदस्य दिग्विजय सिंह, जनसम्पर्क मंत्री पी.सी. शर्मा, संतगण और अन्य जन-प्रतिनिधि मौजूद थे।

मंत्री शर्मा ने बताया कि यह न्यास नर्मदा, मन्दाकिनी एवं क्षिप्रा नदियों के हित संरक्षण के लिये कार्य करेगा। जनमानस की अध्यात्मिक, सांस्कृतिक, सामाजिक, आर्थिक एवं पर्यावरणीय आकांक्षाओं को समुन्नत करेगा। न्यास नदियों के पारिस्थितिक तंत्र को सुरक्षित एवं संरक्षित करेगा। जनमानस को नदियों के हित में कार्य आरंभ करने के लिये प्रेरित करेगा।


न्यास में 16 नामांकित सदस्य हैं। इनमें नर्मदाघाटी विकास प्राधिकरण, जल संसाधन, संस्कृति, पर्यटन, आवास एवं पर्यावरण, वन और खनिज विभागों के मंत्री तथा अपर मुख्य सचिव नर्मदाघाटी विकास प्राधिकरण सदस्य मनोनीत किये गये हैं। अध्यात्म विभाग के अपर मुख्य सचिव न्यास के सदस्य सचिव हैं।

इस तरह बाबा दूसरी बार मंत्री बने हैं, वह भी दूसरे दल की सरकार में। जबकि, अब तक बाबा के किसी भी दल की सदस्यता लैने की जानकारी नहीं है। लेकिन पहले उनको शायद मुंह बंद रखने के लिए मंत्रीपद मिला था और अब हिंदुओं की आराध्य व पवित्र देवी मॉ स्वरूपी नर्मदा, मंदाकिनी व क्षिप्रा नदियों के संरक्षण जैसी जिम्मेदारी पूरी करने के लिए।

तत्काल ताजा खबरों के लिए हमें फॉलो या Allow करें अथवा लाल घंटी बजाकर Subscribe करें. / यह न्यूज कैसी लगी, नीचे कमेंट बॉक्स में अपनी राय भी दें, आपका नाम, नम्बर, ईमेल शो नहीं किया जावेगा.

loading...
News Reporter
इस वेबसाइट के लगभग सभी आलेख व खबरें Dailyhunt, Google News, NewsDog, NewsPoint एवं UC News पर भी उपलब्ध हैं. ज्यादातर चित्र सांकेतिक रहते हैं तथा इंटरनेट के उपयोग किए जाते हैं, इसलिए किसी कॉपीराइट का दावा नहीं है. सम्पर्क: Mob : 91-9993069079 WhatsApp : 91-7974827087 E-Mail : rapaznewsco@gmail.com

1 thought on “भाजपा सरकार में भी मंत्री रहे, कांग्रेस ने भी बनाया फिरभी अब तक किसी पार्टी में नहीं

Comments are closed.

loading...
loading...
Join Group