‘मुल्क’ के निर्माता अनुभव की नयी रचना-‘आर्टीकल 15’

मुम्बई . ‘मुल्क’ फिल्म के निर्माता द्वारा बनाई गई फिल्म ‘आर्टीकल 15’ के चर्चे इस समय चारों तरफ चल रहे हैं।आयुष्मान खुराना अभिनीत फिल्म आर्टीकल 15 के बारे में खबर है कि, यह फिल्म किसी सच्ची घटना पर आधारित है।

जबकि पता चला है कि, यह फिल्म ‘आर्टिकल 15’ की कहानी हमारे संविधान में किए गए इस उल्लेख पर आधारित है कि किसी भी वर्ग, जाति, लिंग या धर्म के व्यक्ति में किसी तरह का अंतर नहीं किया जाएगा।

जिसमें दिखाया गया है कि, आजादी के 71 साल बाद अब भी देश में किस तरह से जाति और धर्म के आधार पर भेदभाव किया जाता है। इस फिल्म का निर्देशन ‘मुल्क’ बनाने वाले निर्देशक अनुभव सिन्हा ने किया है।

क्या है आर्टिकल 15?
संविधान में अनुच्छेद होते हैं, और 15वां अनुच्छेद ही आर्टिकल 15 है। संविधान के आर्टिकल 15 के मुताबिक आप किसी भी व्यक्ति से धर्म, जाति, लिंग या जन्मस्थान के आधार पर भेद-भाव नहीं कर सकते हैं। आर्टिकल 15 में क्या लिखा है आइए आपको प्वाइंटर में बताते हैं।

राज्य, किसी नागरिक से केवल धर्म, मूलवंश, जाति, लिंग, जन्मस्थान या इनमें से किसी भी आधार पर किसी तरह का कोई भेद-भाव नहीं करेगा।


किसी नागरिक को केवल धर्म, मूलवंश, जाति, लिंग, जन्मस्थान या इनमें से किसी के आधार पर किसी दुकान, सार्वजनिक भोजनालय, होटल और सार्वजनिक मनोरंजन के स्थानों जैसे सिनेमा और थियेटर इत्यादि में प्रवेश से नहीं रोका जा सकता है।

इसके अलावा सरकारी या अर्ध-सरकारी कुओं, तालाबों, स्नाघाटों, सड़कों और पब्लिक प्लेस के इस्तेमाल से भी किसी को इस आधार पर नहीं रोक सकते हैं।
यह अनुच्छेद किसी भी राज्य को महिलाओं और बच्चों को विशेष सुविधा देने से नहीं रोकेगा।


इसके अलावा यह आर्टिकल किसी भी राज्य को सामाजिक या शैक्षिक दृष्टि से पिछड़े हुए अनुसूचित जातियों और अनुसूचित जनजातियों के लिए कोई विशेष प्रावधान बनाने से भी नहीं रोकेगा।

तत्काल ताजा खबरों के लिए हमें फॉलो या Allow करें अथवा लाल घंटी बजाकर Subscribe करें. / यह न्यूज कैसी लगी, नीचे कमेंट बॉक्स में अपनी राय भी दें, आपका नाम, नम्बर, ईमेल शो नहीं किया जावेगा.

loading...