स्मृति ईरानी को जनता ने दिया ऐसा जवाब, भूल गई भाषण देना

आज मध्य प्रदेश में उस समय स्मृति ईरानी के सामने उस समय अजीबोगरीब स्थिति उत्पन्न हो गई जब उन्हें जनता से अपनी उम्मीद से बिलकुल विपरीत जवाब मिला. ऐसा करारा जवाब सुनकर कुछ देर के लिए मंच पर तो चुप्पी छाई ही, समृति ईरानी भी कुछ देर के लिए अपना भाषण देना ही भूल गईं. उधर मौका हाथ लगते ही कांग्रेस नेत्री शोभा ओझा ने श्रीमती ईरानी पर तंज कस दिया.

भोपाल. मध्यप्रदेश कांग्रेस कमेटी के मीडिया विभाग की अध्यक्ष श्रीमती शोभा ओझा ने बताया कि केंद्रीय मंत्री स्मृति ईरानी ने आज गुना लोकसभा के अशोक नगर में जो भाषण दिया, उसमें जनता ने उन्हें आईना दिखाते हुए पूरी तरह से झुठला दिया। स्मृति ईरानी ने जब कहा कि- “क्या आप का कर्जा माफ हुआ है?” तो जनता बोली कि “हां हुआ है।”

भाजपा के सभी नेताओं ने चाहे वह नरेंद्र मोदी हों, शिवराज सिंह हों या स्मृति ईरानी हों, सभी ने कर्ज माफी के मुद्दे पर प्रदेश की जनता के सामने गलतबयानी करते हुए, उन्हें बरगलाने की कोशिश की है, इन झूठे नेताओं ने प्रदेश सरकार द्वारा की गई 21 लाख किसानों की कर्जमाफी को झुठलाने का नाकाम प्रयास किया है, जिसका जवाब अब प्रदेश की जनता दे रही है, अगले दो चरणों के मतदान में भी वह भाजपा को करारा सबक सिखाएगी।

श्रीमती शोभा ओझा ने आगे कहा कि प्रदेश की जनता जानती है कि पिछले 15 वर्षों की भाजपा सरकार के पूरे कार्यकाल में, 21000 किसानों की आत्महत्या, मध्यप्रदेश के गौरवशाली इतिहास का काला अध्याय थी। हम आहत थे और इस बात के लिए प्रतिबद्ध भी, कि यदि प्रदेश में हमारी सरकार बनी तो हम अपने अन्नदाताओं को कर्ज के भीषण बोझ से मुक्ति प्रदान करेंगे।

प्रदेश की जनता ने हम पर विश्वास जताया, हमारी सरकार बनी और हमने अविलंब “जय किसान फसल ऋण मुक्ति योजना” पर कार्य प्रारंभ कर दिया।

श्रीमती ओझा ने आगे कहा कि इस योजना के संबंध में एक ओर जहां भारतीय जनता पार्टी लगातार भ्रम फैला रही थी, वहीं दूसरी ओर, कांग्रेस पार्टी की जनहितैषी सरकार, पूरी तन्मयता से किसानों की कर्जमाफी की प्रक्रिया को संपन्न करने में जी-जान से जुटी थी।

परिणाम यह हुआ कि प्रदेश में अब तक कुल 21 लाख किसानों की कर्ज माफी की प्रक्रिया संपन्न हो चुकी है और इसकी सूची को हमने सार्वजनिक करने के साथ ही, प्रदेश के पूर्व भाजपाई मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान को भी सौंप दी है, जो लगातार इस मुद्दे पर किसानों और प्रदेश की जनता के बीच भ्रम फैलाने की कोशिश कर रहे थे।

श्रीमती ओझा ने कहा कि आज केंद्रीय मंत्री स्मृति ईरानी ने भी उसी झूठ को आगे फैलाने की कोशिश की लेकिन प्रदेश की जनता अब ऐसे नेताओं को सीधे ही मुंहतोड़ जवाब देने लगी है । हम साफ कर देना चाहते हैं कि कर्जमाफी की इस पारदर्शी प्रक्रिया में, हमने किसी प्रकार का, कोई भेदभाव नहीं किया, हमने किसान को केवल किसान समझा और बिना किसी राजनीतिक चश्मे के, अपनी निष्पक्षता को कायम रखा। इसके कुछ उदाहरण यहां आपकी जानकारी के लिए प्रस्तुत हैं।

कर्जमाफी के मुद्दे पर सबसे ज्यादा भ्रम फैलाने वाले प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान के गांव में ही, उनके कई परिवारजनों व सगे संबंधियों की कर्जमाफी हुई है, उदाहरण के लिए गोपाल सिंह यशवंत सिंह चौहान की 41820 रुपये की कर्ज माफी दिनांक 21 फरवरी 2019 को हुई, विमलेश महेंद्र सिंह चौहान कि 29517 रुपए की कर्जमाफी दिनांक 21 फरवरी 2019 को हुई, मुन्नीबाई कल्याण सिंह की 74555 रुपये की कर्ज माफी दिनांक 23 फरवरी 2019 को हुई, राजेंद्र सिंह पिता शिवपाल सिंह चौहान की 25678 की कर्जमाफी दिनांक 23 फरवरी 2019 को हुई, ये सभी नाम ग्राम- जैत बुधनी जिला सीहोर में कर्ज माफी की सूची के कुछ उदाहरण हैं । साफ है कि नरेन्द्र मोदी, शिवराज सिंह चौहान और स्मृति ईरानी सहित सभी भाजपा नेताओं के झूठ की पोल खुल चुकी है।

श्रीमती ओझा ने कहा कि इसी प्रकार हरदा के भाजपा विधायक कमल पटेल की पत्नी रेखा कमल पटेल और उनके पुत्र सुदीप कमल पटेल के नाम भी कर्ज माफी की सूची में हैं। इन कुछ उदाहरणों से ही साफ हो जाता है कि भ्रम फैलाने वाली भाजपा के चाल-चरित्र और चेहरे के विपरीत, हमारी नीति और नीयत एकदम साफ है और हम आगे भी, प्रदेश के अन्नदाताओं और यहां की जनता के हितों को, उनके सपनों को पूरा करने के लिए न केवल तत्पर हैं, बल्कि पूरी तरह से वचनबद्ध भी हैं। वायरल पोस्ट

दोस्तों, रापाज न्यूज की सभी नई खबरें तत्काल पाने के लिए ऊपर फॉलो का बटन दवाऐं या नीचे लाल घंटी बजाकर Subscribe करें अथवा ALLOW पर दो बार क्लिक करें. वाट्सएप पर खबरें पढ़ने के लिए हमारा नम्बर 9993069079 अपने मोबाइल में सेव करके Hi या Hello करें. इसे अपने वाट्सएप ग्रुप में भी जोड़ सकते हैं. यह सब बिलकुल मुफ्त है. धन्यवाद.

loading...