मन्नत मांगी तो मिली 35 लाख की डकैती में सफलता लेकिन हुआ ऐसा

नोएडा , सेक्टर-63 स्थित महागुन कॉरपोरेट टावर में 27 अप्रैल को हुई 35 लाख रुपये की डकैती में 14 बदमाश शामिल थे। बदमाशों ने डकैती की सफलता के लिए मन्नत मांगी थी। इसलिए वारदात के बाद सबसे पहले 4 लाख रुपये भंडारे और 2 लाख रुपये वकील की फीस के लिए निकाल दिए थे। उसके बाद एक लाख रुपए मस्ती और पार्टी के लिए निकालकर बाकी 28 लाख रुपये सभी बदमाशों में बराबर बांट दिए गए।

लेकिन इसके वाबजूद पुलिस ने डकैती में शामिल 7 बदमाशों को गिरफ्तार कर 8 लाख कैश बरामद कर लिया है। खबर है कि, गिरफ्तार होने पर जब उन्होंने पुलिस को पूरी जानकारी दी तो एक बुजुर्ग आरक्षक ने उनसे हंसते हुए कहा- वह सबकी मन्नत पूरी करता है, तुम्हें डकैती डालने में कर दी तो हमारी तुम्हें पकड़ने में।

एडीजी मेरठ, प्रशांत कुमार ने बताया कि महागुन कॉरपोरेट टावर में 8 साल से सुपरवाइजर के तौर पर काम कर रहे विजयनगर निवासी ललित ने ही रेकी कर लूट का प्लान बनाया था। उसे पता था कि चुनाव आचार संहिता लागू होने की वजह से कंपनी की तिजोरी में काफी कैश पड़ा है। उसने यह बात अपने पड़ोस में रहने वाले उदय को बताई। उदय वहीं रहने वाले विवेक और सचिन के साथ खुद का डेटा एंट्री का काम शुरू करना चाहता था। विवेक फिलहाल सेक्टर-63 के ए ब्लॉक में ही नौकरी करता है।

13 अप्रैल की रात को विजयनगर निवासी गजराज, उदय, ललित के साथ पिछले हिस्से में बंद पड़ी कंपनी से महागुन टावर में घुसे थे। गार्डों के शोर मचाने की वजह से उन्हें भागना पड़ा।

इसके बाद 22 अप्रैल को विजयनगर में डॉ. रामप्रकाश सारस्वत के आंगन में गजराज, उसकी पत्नी सीमा, उदय, ललित, सचिन ठाकुर व उसके मामा नवरत्न ने मीटिंग की। उसमें तय किया गया कि ज्यादा संख्या में इकट्ठे होकर वारदात को अंजाम दिया जाए। इसके बाद ललित ने बैठक में पूरे टावर का नक्शा बनाकर सामने रखा।

दोस्तों, रापाज न्यूज की सभी नई खबरें तत्काल पाने के लिए ऊपर फॉलो का बटन दवाऐं या नीचे लाल घंटी बजाकर Subscribe करें अथवा ALLOW पर दो बार क्लिक करें. वाट्सएप पर खबरें पढ़ने के लिए हमारा नम्बर 9993069079 अपने मोबाइल में सेव करके Hi या Hello करें. इसे अपने वाट्सएप ग्रुप में भी जोड़ सकते हैं. यह सब बिलकुल मुफ्त है. धन्यवाद.

News Reporter
loading...
loading...
Join Group