अक्षय तृतीया कल; कुछ महत्वपूर्ण बातें

अक्षय तृतीया जो इस वर्ष मंगलवार 7 मई को है, उसका महत्व क्यों है, जानिए कुछ महत्वपुर्ण जानकारी:

  • आज ही के दिन माँ गंगा का अवतरण धरती पर हुआ था.
  • महर्षी परशुराम का प्राकट्य आज ही के दिन हुआ था.
  • माँ अन्नपूर्णा का प्राकट्य भी आज ही के दिन हुआ था.
  • आज ही के महाभारत के युद्ध की नींव पड़ी थी, दुर्योधन ने इसी दिन द्रोपदी का चीरहरण करने की कोशिश की थी.
  • आज ही के दिन यह युद्ध पूरा भी हुआ था.
  • कृष्ण और सुदामा का मिलन आज ही के दिन हुआ था.
  • कुबेर को आज ही के दिन खजाना मिला था.
  • सतयुग और त्रेता युग का प्रारम्भ आज ही के दिन हुआ था.
  • ब्रह्मा जी के पुत्र अक्षय कुमार का अवतरण भी आज ही के दिन हुआ था.
  • अक्षय कुमार के अवतरण के आधार पर ही वैशाख मास के शुक्ल पक्ष की इस तृतीया तिथि को ‘अक्षय तृतीया’ (अक्षय का अर्थ है, क्षीण न होने वाली) कहा जाता है.
  • प्रसिद्ध तीर्थ स्थल श्री बद्री नारायण जी के कपाट आज ही के दिन खोले जाे हैं.
  • बृंदावन के बाँके बिहारी मंदिर में साल में केवल आज ही के दिन श्री विग्रह चरण के दर्शन होते है अन्यथा साल भर वो बस्त्र से ढके रहते है.
  • अक्षय तृतीया अपने आप में स्वयं सिद्ध मुहूर्त है, कोई भी शुभ कार्य बगैर पंचांग या मुहूर्त के भी आज से प्रारम्भ करना अति शुभ माना जाता है.

प्रस्तुति: पं. आनंद प्रकाश शर्मा, दतिया

दोस्तों, रापाज न्यूज की सभी नई खबरें तत्काल पाने के लिए ऊपर फॉलो का बटन दवाऐं या नीचे लाल घंटी बजाकर Subscribe करें अथवा ALLOW पर दो बार क्लिक करें. वाट्सएप पर खबरें पढ़ने के लिए हमारा नम्बर 9993069079 अपने मोबाइल में सेव करके Hi या Hello करें. इसे अपने वाट्सएप ग्रुप में भी जोड़ सकते हैं. यह सब बिलकुल मुफ्त है. धन्यवाद.