MP; बीजेपी के मौजूदा सांसदों का तगड़ा विरोध, 16 सीटों पर संकट

भोपाल।  मध्य प्रदेश में भाजपा के लिए सत्ता की राह अब आसान नहीं रह गयी। पार्टी के बड़े नेता भी ऐसा हैं, यही वजह है कि, लोकसभा सीटों पर हार-जीत का आंकलन करने के लिए पार्टी ने पहली बार पांच टीमें बनाकर राज्य की 29 सीटों की रिपोर्ट ली। रिपोर्ट से पार्टी को चुनाव बाद की दुःखद तस्वीर नज़र आ सकती है। दरअसल, इस रिपोर्ट में विधायकों और जिलाध्यक्षों के साथ स्थानीय नेताओं ने मौजूदा सांसदों का जमकर विरोध किया। इन सांसदों में केंद्रीय मंत्री (द्वय) वीरेंद्र कुमार और नरेंद्र सिंह तोमर, पूर्व प्रदेश अध्यक्ष नंदकुमार सिंह चौहान, गणेश सिंह समेत कई बड़े नेताऑ के नाम बताये गए हैं। कि, वर्तमान में भाजपा के खाते में मप्र की 29 में से 26 सीटें हैं लेकिन अब इनमे से 16 सीटों पर उसे नुकसान होता दिख रहा है।

2014 के लोकसभा चुनाव में भाजपा ने प्रदेश चुनाव समिति के सदस्यों को मौके पर यानी लोकसभा सीटों पर भेजकर राय-मशविरा किया था, लेकिन इस बार इसके लिए लोकसभा सीटों से जुड़े नेताओं को भोपाल बुला लिया गया। बहरहाल, सीट-वार फीडबैक लेने वाली पांच टीमों में एक प्रदेश अध्यक्ष राकेश सिंह, दूसरी पूर्व मुख्यमंत्री  शिवराज सिंह चौहान, तीसरी केंद्रीय मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर व नेता प्रतिपक्ष गोपाल भार्गव, चौथी संगठन महामंत्री सुहास भगत व नरोत्तम मिश्रा तथा पांचवी टीम राष्ट्रीय उपाध्यक्ष प्रभात झा व राष्ट्रीय महासचिव कैलाश विजयवर्गीय की रही।

19 मार्च को प्रदेश चुनाव समिति की बैठक होगी, लिहाजा इससे पहले ही सभी 29 सीटों का फीडबैक राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह को भेजा जाएगा। शाम को राष्ट्रीय महासचिव अनिल जैन ने लोकसभा चुनाव प्रबंध समिति की टीम के साथ अलग से बैठक की। 22 मार्च काे केंद्रीय चुनाव समिति की बैठक में मप्र के कुछ नाम तय हो जाएंगे।

दोस्तों, यह आर्टीकल आपको कैसा लगा, कृपया नीचे कमेंट बॉक्स में जरूर बताऐं. अगर आप ऐसी ही खबरें तत्काल पाना चाहें तो कृपया ऊपर फॉलो का बटन दवाऐं या नीचे लाल घंटी बजाऐं. अपने वाट्सएप पर खबरें पढ़ने के लिए हमारे नम्बर 9993069079 पर Hi / Hello या Miscall करें. यह नम्बर आप अपने वाट्सएप ग्रुप में भी जोड़ सकते हैं. धन्यवाद.

loading...