भाजपा की प्रत्याशी ने किया शहीद का अपमान, पार्टी ने पल्ला झाड़ा

भोपाल. मध्य प्रदेश के भोपाल संसदीय सीट से भाजपा की प्रत्याशी साध्वी प्रज्ञा सिंह ठाकुर द्वारा मुंबई हमले के शहीद हेमंत करकरे पर दिए बयान की चारों तरफ आलोचना हो रही है. साध्वी के इस बयान को न केवल उनकी कट्टरता माना जा रहा है बल्कि देशभक्त शहीदों के प्रति साध्वी द्वारा अपमान करना माना जा रहा है.

बता दें कि, साध्वी ने 26/11 हमले में शहीद हुए ATS चीफ हेमंत करकरे के बारे में कहा है कि ‘उन्हें उनके कर्मों की सजा मिली है. उन्होंने मुझे गलत तरीके से फंसाया था. हेमंत करकरे मुझे किसी भी तरह से आतंकवादी घोषित करना चाहते थे.

यही नहीं प्रज्ञा ने अपने कथित जख्म को याद करते हुए यह भी बताया कि ‘एक राष्ट्रीय सुरक्षा आयोग के सदस्य को उन्होंने भेजा, हेमंत करकरे को उन्होंने मुंबई बुलाया, मैं मुंबई जेल में थी तब. हेमंत करकरे को राष्ट्रीय सुरक्षा आयोग के सदस्य ने कहा कि जब तुम्हारे पास सबूत नहीं है तो साध्वी को छोड़ दो. सबूत नहीं है तो इनको रखना गलत है, यह गैरकानूनी है. उसने कहा, मैं कहीं से भी सबूत लेकर आऊंगा, लेकिन इस साध्वी को नहीं छोड़ूंगा. यह उसकी कुटिलता थी. यह देशद्रोह था. वह मुझसे हर तरह के सवाल करता था, ये कैसे हुआ, वह कैसे हुआ. मैंने कहा, मुझे नहीं पता, भगवान जाने. तो उसने कहा क्या मुझे यह जानने के लिए भगवान के पास जाना होगा. तो मैंने कहा, जरूर अगर आपको आवश्यकता है तो आप जरूर जाइए.’

अपनी बात को प्रामाणिक बताते हुए साध्वी प्रज्ञा ने कहा कि- “आपको विश्वास करने में थोड़ी तकलीफ होगी, देर लगेगी, लेकिन मैंने उससे कहा था कि उसका सर्वनाश होगा. उसने मुझे कई यातनाएं दीं, कई गंदी गालियां दीं. वह मेरे लिए ही नहीं, किसी के लिए भी असहनीय होंगी. ठीक सवा महीने में सूतक लगता है. जिस दिन मैं गई थी, उस दिन इसके सूतक लग गए थे. और ठीक सवा महीने में जिस दिन आतंकवादियों ने उसको मारा, उस दिन उसका अंत हुआ.”

6 लोगों की हुई थी मौत:

बता दें कि राजनीतिक कार्यकर्ता तहसीन पूनावाला ने गुरुवार को को चुनाव आयोग से अनुरोध किया था कि मध्य प्रदेश की भोपाल संसदीय सीट से बीजेपी प्रत्याशी साध्वी प्रज्ञा को चुनाव लड़ने से रोका जाए क्योंकि उन पर आतंकवाद संबंधी आरोप हैं. आयोग को लिखे एक पत्र में उन्होंने कहा कि महाराष्ट्र के आतंकवाद विरोधी दस्ते (एटीएस) ने पाया कि साल 2008 में हुए मालेगांव बम धमाके में ठाकुर ‘‘मुख्य षड्यंत्रकर्ता’’ हैं. इस घटना में छह लोगों की मौत हो गई थी.

पार्टी ने पल्ला झाड़ा:

प्रज्ञा ठाकुर के इस बयान की जहां लगभग हर तरफ निंदा हो रही वहीं खबर है कि, उन्हें भोपाल से प्रत्याशी बनाए जाने से नाराज प्रदेश के नेताओं ने इस बयान को चुनाव के दौरान पार्टी को नुकसान पहुंचाने वाला बताते हुए हाई कमान तक शिकायत भेज दी और साध्वी पर बयान बदलने का दबाव डलवाने की कोशिश की. जिसको परिणामस्वरूप पार्टी के केन्द्रीय कार्यालय द्वारा साध्वी के बयान को उनका निजीबयान बताते हुए पल्ला झाड़ दिया. इतना ही साध्वी के बयान के विपरीत शहीद करकरे के प्रति सम्मान भी प्रकट किया.

दिग्गी ने किया हमला:
वरिष्ठ कांग्रेस नेता और भोपाल से प्रत्याशी दिग्विजय सिंह ने साध्वी के विवादित बयान पर प्रतिक्रिया देते हुए कहा- ‘मैं सिर्फ इतना कहना चाहता हूं कि मैं बीजेपी प्रत्याशी (साध्वी प्रज्ञा) के खिलाफ कुछ नहीं कहूंगा.’ उन्होंने कहा, ‘चुनाव आयोग का स्पष्ट आदेश है, सेना और शहीदों पर कोई टिप्पणी नहीं करनी चाहिए. हेमंत करकरे जी ईमानदार और निष्ठावान ऑफिसर थे जिन्होंने मुंबई के लोगों की जान बचाने के लिए आतंकी हमले में शहादत दी थी.

दोस्तों, रापाज न्यूज की सभी नई खबरें तत्काल पाने के लिए ऊपर फॉलो का बटन दवाऐं या नीचे लाल घंटी बजाऐं. वाट्सएप पर खबरें पढ़ने के लिए हमारा नम्बर 9993069079 अपने मोबाइल में सेव करके Hi / Hello या Miscall करें. इसे अपने वाट्सएप ग्रुप में भी जोड़ सकते हैं. धन्यवाद.


loading...
News Reporter
इस वेबसाइट के लगभग सभी आलेख व खबरें Dailyhunt, Google News, NewsDog, NewsPoint एवं UC News पर भी उपलब्ध हैं. ज्यादातर चित्र सांकेतिक रहते हैं तथा इंटरनेट के उपयोग किए जाते हैं, इसलिए किसी कॉपीराइट का दावा नहीं है. सम्पर्क: Mob : 91-9993069079 WhatsApp : 91-7974827087 E-Mail : rapaznewsco@gmail.com

1 thought on “भाजपा की प्रत्याशी ने किया शहीद का अपमान, पार्टी ने पल्ला झाड़ा

Comments are closed.

loading...
loading...
Join Group