शिवराज सरकार में किसानों के साथ हुआ था ऐसा छल

मध्यप्रदेश में डेढ़ दशक तक रही भाजपानीत शिवराज सिंह चौहान की सरकार के दौरान हुए व्यापम, खनिज, ईटेंडरिंग, नर्मदा पौधारोपण और हनीट्रेप आदि तमाम घोटाले तो आपने सुने ही होंगे। लेकिन क्या आपको इसी दौरान किसानों से किए गए इस छलकपट की जानकारी है, शायद नहीं।

भारतीय पासपोर्ट पर आतंकी साया; बनाने का ठेका पाकिस्तान सम्बंधी कम्पनी को

राजधानी के आसपास की किसानों की तकरीबन 25-30 करोड़ की खेती की जमीन सरकार में बैठे अधिकारियों ने मात्र दो करोड़ में रसूखदारों के नाम कर दी थी। पता चलने पर भी सरकार कुछ नहीं करना चाहती थी लेकिन भोपाल जिला सहकारी केंद्रीय बैंक के तत्कालीन अध्यक्ष विजय तिवारी ने सरकार के न चाहते हुए भी शिकायत दर्ज करा दी और तत्कालीन लोकायुक्त जस्टिस पीपी नावलेकर की नाराजगी के बाद सरकार को अदालत में चालान पेश करना पड़ा, जिसके फलस्वरूप अब दोषियों को सजा मिल सकी।

किराए की कोख पर अब 10 लाख का जुर्माना, लोस में पास हुआ सरोगेसी विधेयक

जानकारी के अनुसार राजधानी भोपाल के आसपास एक दर्जन से ज्यादा गांवों में किसानों की बेशकीमती 983 एकड़ जमीन मात्र पौने दो करोड़ रुपए में नीलाम करने के मामले में दोषी दो सहकारिता के अधिकारियों को विशेष अदालत ने 5-5 साल की सजा सुना दी।

आप भी बन सकते हैं- लेखक, संवाददाता, कैमरामेन या ब्यूरो चीफ

अधिकारियों ने किसानों को वसूली का नोटिस भेजने की कागजी कार्रवाई करते हुए रसूखदारों को जमीन औने-पौने दाम में नीलाम कर दी थी। 2008 में भोपाल जिला सहकारी केंद्रीय बैंक के तत्कालीन अध्यक्ष विजय तिवारी ने भारी दबाव के बावजूद लोकायुक्त में शिकायत दर्ज कराई थी।

पहली बार पकड़ा गया महिलाओं का ऐसा रैकेट, हनीट्रेप में फंसाकर करती थीं ब्लैकमेल

विशेष स्थापना पुलिस ने 127 एफआईआर दर्ज की। 24 मामले बनाकर शासन से अभियोजन की अनुमति मांगी। तत्कालीन लोकायुक्त जस्टिस पीपी नावलेकर की नाराजगी के बाद सरकार ने अनुमति दी और फिर अदालत में चालान पेश हुए।

सूत्रों के मुताबिक किसानों की जमीन औने-पौने दाम में नीलाम करने के मामले में प्रभावित किसान लंबे समय से न्याय की गुहार लगा रहे थे, लेकिन रसूखदारों के कारण सुनवाई नहीं हो रही थी। काफी दबाव के बाद सहकारिता विभाग ने अगस्त 2007 में संयुक्त पंजीयक श्रीकुमार जोशी की अध्यक्षता में कमेटी बनाई थी। कमेटी की रिपोर्ट में अफसरों की लापरवाही बताई थी।

वहीं,वर्ष 2008 में जिला सहकारी केंद्रीय बैंक भोपाल के तत्कालीन अध्यक्ष विजय तिवारी ने मामले की शिकायत लोकायुक्त संगठन में कर दी। काफी आरोप-प्रत्यारोप का दौर चला तो फरवरी 2010 में तत्कालीन मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने किसानों से मुलाकात की और एलान किया कि किसी भी किसान की जमीन नीलाम नहीं होगी।

खरीदारों के पक्ष में जमीन का नामांतरण पर नहीं होगा और किसानों को सरकार कानूनी सहायता भी मुहैया कराएगी। सरकार के किसानों के पक्ष में रुख को देखने के बाद लोकायुक्त पुलिस की कार्रवाई में तेजी आई और सहकारिता विभाग के अधिकारियों को निलंबित कर दिया है।

हालांकि, उन्हें हाई कोर्ट से स्थगन मिल गया। विजय तिवारी ने बताया कि बैंक और विभाग के अधिकारियों ने ईंटखेड़ी, दामखेड़ा, गोलखेड़ी, कौडिया, चंनेरी, मुगालिया छाप, बैरागढ़ चीचली, परवलिया, अरवलिया, जाटखेड़ी, रातीबड़ सहित अन्य गांवों के किसानों की जमीन गुपचुप नीलाम कर दी थी।

नीलामी के खिलाफ कुछ किसान हाई कोर्ट गए और 20-21 के हक में फैसला भी हुआ। अंगूरी बानो के मामले में सुप्रीम कोर्ट ने लोकायुक्त और शासन से कार्रवाई के बारे में स्टेटस भी मांगा था।

इस फैसले से उन किसानों को राहत मिली है जो अभी भी जमीन मिलने की आस लगाए हैं, क्योंकि कुछ मामलों में खरीदारों ने अपने प्रभाव का इस्तेमाल करके कब्जा भी हासिल कर लिया था।

Conract :: RapazNews  

◊वाट्सएप पर भेजी सूचना आप तक पहुंचना अब संभव नहीं, इसलिए देश – दुनियां की ऐसी ही खबरों / वीडियो से हमेशा अपडेट रहने के लिए कृपया यहां दिख रहा Allow या Follow का बटन दवाऐं अथवा लाल घंटी बजाऐं. धन्यवाद.   सम्पर्क: रापाज न्यूज

loading...
News Reporter
इस वेबसाइट व यू ट्यूब चैनल के लगभग सभी खबरें तथा वीडियो आदि Dailyhunt, Google News, NewsDog, NewsPoint एवं UC News पर भी उपलब्ध हैं इसमें ज्यादातर चित्र सांकेतिक रहते हैं तथा इंटरनेट व सोशल मीडिया से उपयोग किए जाते हैं, इसलिए हम किसी कॉपीराइट का दावा नहीं करते. सम्पर्क: Mobile / WhatsApp : 91-9993069079 E-Mail : rapaznewsco@gmail.com
loading...
loading...
Join Group