महाराष्ट्र में तीसरी बार राष्ट्रपति शासन, शिवसेना सुप्रीम कोर्ट में

जैसीकि, आशंका चल पड़ी थी, केन्द्र सरकार ने मौका लगते ही आखिरकार महाराष्ट्र में राष्ट्रपति शासन के लिए प्रस्ताव पास किया और कुछ ही देर बाद वहां राष्ट्रपति शासन लगने की घोषणा भी हो गई।

केबिनेट के प्रस्ताव को राष्ट्रपति ने मिलते ही मंजूरी दे दी। हालांकि इसके प्रस्ताव के साथ ही शिवसेना ने सुप्रीम कोर्ट का दरवाजा खटखटा दिया है।

याद हो कि, महाराष्ट्र में राजभवन के प्रवक्ता ने राज्य मे राष्ट्रपति शासन लगाने की बात को नकारा था, जबकि राज्यपाल भगत सिंह कोश्यारी ने मंगलवार को इसकी सिफारिश भी कर दी और राज्य में तीसरी बार राष्ट्रपति शासन लग ही गया।

अब भारत के अलग-अलग राज्यों में करीब 125 बार राष्ट्रपति शासन लग चुका है। जबकि महाराष्ट्र में अब तक केवल दो बार ही ऐसा हुआ। इसके पहले 17 फरवरी 1980 को पहली बार लागू हुआ था। उस वक्त शरद पवार मुख्यमंत्री थे। उनके पास बहुमत था, हालांकि राजनीतिक हालात बिगड़ने पर विधानसभा भंग कर दी गई थी। ऐसे में 17 फरवरी से आठ जून 1980 तक करीब 112 दिन तक राज्य में राष्ट्रपति शासन लागू रहा था।

दूसरी बार 28 सितंबर 2014 को भी महाराष्ट्र में राष्ट्रपति शासन लगाया गया था। उस वक्त राज्य की सत्तारूढ़ पार्टी कांग्रेस थी। कांग्रेस अपने सहयोगी दल राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी (एनसीपी) सहित अन्य दलों के साथ अलग हो गई थी और विधानसभा भंग कर दी गई थी, तब 28 सितंबर 2014 से लेकर 30 अक्तूबर यानि 32 दिनों तक राज्य में दूसरी बार राष्ट्रपति शासन लागू रहा।

राष्ट्रपति शासन का मतलब:
राष्ट्रपति शासन का अर्थ है, किसी राज्य का नियंत्रण भारत के राष्ट्रपति के पास चला जाना। लेकिन प्रशासनिक दृष्टि से केंद्र सरकार इसके लिए राज्य के राज्यपाल को कार्यकारी अधिकार प्रदान करती है। संविधान के अनुच्छेद 352, 356 और 365 में राष्ट्रपति शासन से जुड़े प्रावधान दिए गए हैं।

अनुच्छेद 356 के अनुसार राष्ट्रपति किसी भी राज्य में राष्ट्रपति शासन लगा सकते हैं यदि वे इस बात से संतुष्ट हों कि राज्य सरकार संविधान के मुताबिक काम नहीं कर रही है। अनुच्छेद 365 अनुसार राज्य सरकार केंद्र सरकार द्वारा दिए गए संवैधानिक निर्देशों का पालन नहीं करती तो उस हालात में भी राज्य में राष्ट्रपति शासन लगाया जा सकता है। अनुच्छेद 352 के तहत आर्थिक आपातकाल की स्थिति में राष्ट्रपति शासन लगाया जा सकता है।

Conract :: RapazNews  

◊वाट्सएप पर भेजी सूचना आप तक पहुंचना अब संभव नहीं, इसलिए देश – दुनियां की ऐसी ही खबरों / वीडियो से हमेशा अपडेट रहने के लिए कृपया यहां दिख रहा Allow या Follow का बटन दवाऐं अथवा लाल घंटी बजाऐं. धन्यवाद.   सम्पर्क: रापाज न्यूज

loading...
News Reporter
इस वेबसाइट व यू ट्यूब चैनल के लगभग सभी खबरें तथा वीडियो आदि Dailyhunt, Google News, NewsDog, NewsPoint एवं UC News पर भी उपलब्ध हैं इसमें ज्यादातर चित्र सांकेतिक रहते हैं तथा इंटरनेट व सोशल मीडिया से उपयोग किए जाते हैं, इसलिए हम किसी कॉपीराइट का दावा नहीं करते. सम्पर्क: Mobile / WhatsApp : 91-9993069079 E-Mail : rapaznewsco@gmail.com
loading...
loading...
Join Group